Introduction

एक अप्रील, 2007 के प्रभाव से राज्य सरकार द्वारा अनुसूचित जातियों एवं अनुसूचित जनजातियों के समग्र विकास किये जाने के लिए पूर्ववती कल्याण विभाग से अलग कर अनु0 जाति एवं अनु0 जनजाति कल्याण विभाग के रुप मे स्थापित किया गया। इस विभाग के माध्यम से कई प्रकार के विशेष कार्यक्रम अनुसूचित जाति एवं अनु0 जनजाति के आर्थिक, शैक्षणिक एवं सामाजिक उत्थान के लिये चलाये जा रहे हैं।


प्रवेशिकोत्तर छात्रवृत्ति (Post Matric Scholarship) के लिये ऑनलाईन आवेदन करें ।  

 

 

 


Last Updated : 21-10-2014